योग दर्शन

स्वामी रामदेव जी के सात प्राणायाम

स्वामी रामदेव  जी  के सात प्राणायाम

~यो+ग ~ के आठ अंगों में से चौथा अंग है प्राणायाम। प्राण+आयाम से प्राणायाम शब्द बनता है। प्राण का अर्थ जीवात्मा माना जाता है । आयाम के दो अर्थ है- प्रथम नियंत्रण या रोकना, द्वितीय विस्तार । हम जब साँस लेते हैं तो भीतर जा रही हवा या वायु पाँच भागों में विभक्त हो जाती है या कहें कि वह शरीर के भीतर पाँच जगह स्थिर हो जाता हैं।

ये पंचक निम्न हैं-

(1) व्यान, (2 )समान, (3) अपान, (4) उदान और (5) प्राण।

Pages